आईपीएल का ये सीजन ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या के लिए काफी अच्छा रहा। हार्दिक पंड्या ने चोट के बाद क्रिकेट मैदान पर धमाकेदार वापसी की। पांड्या ने बल्ले और गेंद के साथ शानदार प्रदर्शन के अलावा आईपीएल 2022 में कमाल की कप्तानी की और पहले ही सीजन में नई फ्रेंचाइजी गुजरात टाइटंस को आईपीएल का चैम्पियन बना दिया। सीजन की शुरुआत में किसी ने गुजरात के खिताब जीतने की शायद कल्पना भी नहीं की थी।

इस बात को लेकर भी लोगों के मन में शंका थी कि हार्दिक लीग में बतौर ऑलराउंडर खेल भी पाएंगे या नहीं, लेकिन, हार्दिक ने आईपीएल का खिताब जीतकर अपने आलोचकों का मुंह बंद कर दिया। फिलहाल, वो एक कप्तान के रूप में अपने पहले आईपीएल खिताब का जश्न मना रहे हैं। इस बीच, बचपन के कोच ने हार्दिक के करियर के सबसे बुरे दौर की यादें ताजा कर दी।

हार्दिक पंड्या

कॉफी विद करन शो पर आना हार्दिक पंड्या के लिए भारी

हार्दिक के क्रिकेट करियर का बुरा दौर 2019 में आया था। जब कॉफी विद करन’ शो पर आना उनके लिए भारी पड़ गया था। हार्दिक ने इस शो में महिलाओं को लेकर कुछ ऐसी बातें कही थीं, जिस पर बवाल मच गया था। बीसीसीआई ने इस वजह से उन्हें ऑस्ट्रेलिया दौरे के बीच से ही वापस भारत बुला लिया था और उन पर बैन भी लगा दिया था। उन्होंने, इस विवाद के वक्त अपने बचपन के कोच जितेंद्र सिंह से एक वादा किया था कि इस कॉन्ट्रोवर्सी के बाद अब वो उनके बारे में कुछ बुरा या नेगेटिव नहीं सुनेंगे और हार्दिक ने इस वादे को पूरा भी किया है।

हार्दिक पंड्या को लेकर उनके बचपन के कोच जितेंद्र ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, “कॉफी विद करन’ शो के दौरान पैदा हुए विवाद से हार्दिक काफी परेशान था। भारत लौटने के बाद वो पूरी रात नहीं सोया था। वो किसी से बात नहीं कर रहा था।

ऐसे में हार्दिक तब अपनी बात पहुंचाने के लिए मैंने कमरे में बैठे दूसरे शख्स से कहा था, “टेंशन नहीं लेना है। तुम दोबारा भारत के लिए खेलोगे। जो हो गया, सो हो गया, अब उसे लेकर परेशान होने की कोई जरूरत नहीं। कल सुबह रिलायंस स्टेडियम में आओ। मैंने हम दोनों के लिए बैडमिंटन कोर्ट बुक किया है। मैं चाहता था कि वो दोबारा खेल को एंजॉय करे इसके बाद हार्दिक को एहसास हुआ कि वो खिलाड़ी है, वो यही करने के लिए पैदा हुआ है। चैट शो के लिए नहीं।”

कोच जितेंद्र ने आगे कहा कि हार्दिक ने इस विवाद के बाद मुझसे एक बार कहा था,”कोच इसके बाद आप मेरे बारे में कोई नेगेटिव बात नहीं सुनोगे। उसने अपना वादा निभाया। आज पिता होते तो उनको भी हार्दिक पर कितना गर्व होता।”

इस विवाद के तीन साल बाद ही हार्दिक ने अपने ऑलराउंड खेल के दम पर आईपीएल का खिताब जीतकर उन पर सवाल उठाने वालों के मुंह बंद कर दिए हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.